Blog

Diwali

पटाखों की दुकान से दूर हाथों में, कुछ सिक्के गिनते मैंने उसे देखा… एक गरीब बच्चे की आखों में, मैंने दिवाली को मरते देखा… थी चाह उसे भी नए कपड़े पहनने की, पर उन्हीं पुराने कपड़ों को मैंने उसे साफ करते देखा… हम करते हैं सदा अपने ग़मों की नुमाईश, उसे चुप-चाप ग़मों को पीते देखा… जब मैंने कहा, “बच्चे,…

Continue Reading

Hindi day

आज यूँ ही कह रही है हिंदी मुझसे भाषा हूँ मैं या फिर कुछ और ? संस्कृत की पोती, प्रकृत की बेटी सोई हुई चेतना, एक राष्ट्र की अस्मिता पूर्वजों की गाथा, नवयुग की पताका, या सिर्फ हिन्दुओं की भाषा ? मै हिन्द वाली हिंदी या हिन्दुओं की बिंदी न समझ पा रही राजनीती इतनी गन्दी। हिन्दू ही हिंदी है…

Continue Reading

Aham & waham

लोग वहम में रहते हैं की हमें कोई अहम नहीं है। इस ‘हम’ से बडा तो कोई वहम नहीं है। अकेले आकर अकेले जाते हैं लोग। फिर भी ‘हम’ होने का अहम पालते हैं लोग ।। अमीरों को बड़प्पन का अहम है। गरीबों को फूटी किस्मत का वहम है। जिनमे समझदारी की सौगात है। उन्हें दोनों की नासमझी पर रहम…

Continue Reading

The Stages of Start Up Funding

11 Insider Secrets for Getting VCs to Fund Your Company …. Continued… 1. Show your passion. This is the biggest mistake. “You get an entrepreneur talking to a VC, it can be intimidating,” “They get nervous and they don’t show how passionate they are about their business. Failing to show your passion in the first 30 seconds of that initial…

Continue Reading